Diwali festival kya hai kaise or kyu banaya jata hai

Hello, 
SubTecHGuide पर आपका स्वागत है। आप सभी को  SUB TECH GUIDE की पूरी टीम की तरफ सेदीपावली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ। हम आपको इस पोस्ट मे दीपावली त्यौहार के बारे मेबताएँगे।दीपावली भारतीय का प्रमुख त्यौहार है। दीपावली को दीवाली भी कहते है, अर्थात रोशनी कात्योहार कहते है यह त्यौहार अंधकार पर प्रकाश की विजय को दर्शाता है। दीपावली 5 दिनों कात्यौहार है।

Diwali festival kya hai  kaise or kyu  banaya jata hai (www.subtechguide.com)
Diwali festival kya hai  kaise or kyu  banaya jata hai


दिवाली हिन्दू धर्म का मुख्य पर्व है। रोशनी का पर्व दिवाली कार्तिक अमावस्या के दिन मनाया जाता है। दिवाली को दीपावली (Deepawali) के नाम से भी जाना जाता है। मान्यता है कि दीपों से सजी इस रात में लक्ष्मीजी भ्रमण के लिए निकलती हैं और अपने भक्तों को खुशियां बांटती हैं। दिवाली मनाने के पीछे मुख्य कथा (About Diwali in Hindi) विष्णुजी के रूप भगवान श्री राम से जुड़ी है। 

दिवाली 2017 (Diwali 2017)
इस साल दीपावली या दिवाली 30 अक्टूबर को मनाई जाएगी। 


दीपावली पर्व के पीछे कथा (Story of Deepawali in Hindi)
अपने प्रिय राजा श्री राम के वनवास समाप्त होने की खुशी में अयोध्यावासियों ने कार्तिक अमावस्या की रात्रि में घी के दिए जलाकर उत्सव मनाया था। तभी से हर वर्ष दीपावली का पर्व मनाया जाता है। इस त्यौहार का वर्णन विष्णु पुराण के साथ-साथ अन्य कई पुराणों में किया गया है।

दीपावली पर लक्ष्मी पूजा (Deepawali Pooja Vidhi Hindi)
अधिकांश घरों में दीपावली के दिन लक्ष्मी-गणेश जी की पूजा (Laxmi Puja on Diwali) की जाती है। हिन्दू मान्यतानुसार अमावस्या की रात्रि में लक्ष्मी जी धरती पर भ्रमण करती हैं और लोगों को वैभव का आशीष देती है। दीपावली के दिन गणेश जी की पूजा का यूं तो कोई उल्लेख नहीं परंतु उनकी पूजा के बिना हर पूजा अधूरी मानी जाती है। इसलिए लक्ष्मी जी के साथ विघ्नहर्ता श्री गणेश जी की भी पूजा की जाती है। 

दीपावली कब मनाई जाती है –


दीपावली त्यौहार कार्तिक अमावस्या के दिन मनाया जाता है। लेकिन यह त्यौहार 5 दिनों(धनतेरस, नरकचतुदर्शी, अमावश्या, कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा, भाई दूजका होता है इसलिए यह धनतेरस से शुरू होकरभाई दूज पर खत्म होता है। दीपावली त्यौहार की तारीख हिन्दू कलेंडर के अनुसार निर्धारित होती हैलेकिन यह त्योहार अक्तूबर – नवंबर महीने मे आता है।

दीपावली क्यों मनाई जाती है –


दीपावली त्यौहार मनाने के कई कारण है जिससे संबन्धित हम आपको नीचे कई कथाये बता रहे है –

हिन्दू धर्म में –


पहली कथा –
हिन्दी ग्रंथ रामायण के अनुसार, दशरथ पुत्र भगवान श्री राम ने अपने वनवास काल मे लंका राजा रावणका वध कर माता सीता को मुक्त कराया था। और जब वे चौदह वर्षों का वनवास पूर्ण कर अपने नगरअयोध्या पहुंचे तो अयोध्यावासियों ने पूरे नगर मे घी के दिये जलाकर उत्सव मनाया था। तभी से हरकार्तिक अमावस्या को दीपावली मनाई जाती है।

दूसरी कथा –
जब देवताओं और राक्षसो द्वारा समुन्द्र मंथन चल रहा था तब कार्तिक अमावस्या पर देवी लक्ष्मी क्षीरसागर(दूध का लौकिक सागरसे ब्रह्माण्ड मे आई थी तभी से माता लक्ष्मी के जन्मदिन की उपलक्ष्य मेदीपावली का त्यौहार मनाया जाता है।

तीसरी कथा –
दीपावली के एक दिन पहले को नरक चतुर्दशी कहते है। क्योंकि भगवान श्री कृष्ण ने इस दिन नरकासुरका वध किया था। नरकासुर एक पापी राजा था, यह अपने शक्ति के बल से देवताओं पर अत्याचारकरता था और अधर्म करता था। उसने सोलह हजार कन्याओं को बंदी बनाकर रखा था। इसलिएभगवान श्री कृष्ण ने नरकासुर का वध किया। इसलिए इस दिन को नरक चतुर्दशी कहते है और उस दिनसे बुराई पर सत्य की जीत पर लोगो ने अगले दिन उल्लास के साथ दीपक जलाकर दीपावली का त्यौहारमनाया।


दीपदान (Deepdan in Hindi)
दीपावली के दिन दीपदान का विशेष महत्त्व होता है। नारदपुराण के अनुसार इस दिन मंदिर, घर, नदी, बगीचा, वृक्ष, गौशाला तथा बाजार में दीपदान देना शुभ माना जाता है। 
मान्यता है कि इस दिन यदि कोई श्रद्धापूर्वक मां लक्ष्मी की पूजा करता है तो, उसके घर में कभी भी दरिद्रता का वास नहीं होता। इस दिन गायों के सींग आदि को रंगकर उन्हें घास और अन्न देकर प्रदक्षिणा की जाती है। 


दीपावली पर्व भारतीय सभ्यता की एक अनोखी छठा को पेश करता है। आज अवश्य पटाखों की शोर में माता लक्ष्मी की आरती का शोर कम हो गया है लेकिन इसके पीछे की मूल भावना आज भी बनी हुई है। 

जैन धर्म मे –


कार्तिक कृष्ण अमावस को भगवान महावीर का निर्वाण हुआ था, इसलिए वीर निर्वाण दिवस जैनधर्मानुसार दीपावली पर्व के रूप मे मनाया जाता है।


सिख धर्म मे –


वर्ष 1577 मे अमृतसर के स्वर्ण मंदिर की स्थापना भी दीपावली पर ही की गयी। और वर्ष 1619 मेसिक्खों के छठे गुरु हरगोबिन्द सिंह जी को जेल से रिहा दीपावली के दिन ही किया।


दीपावली का त्यौहार कैसे मनाया जाता है –


दीपावली का त्यौहार 5 दिनों तक मनाया जाता है। यह धनतेरस से शुरू होकर भाई दूज पर खत्म होताहै। लेकिन दीपावली की तैयारी कई दिनों पहले से शुरू हो जाती है। लोग अपने घरों, दुकानों आदि कीसफाई करते है। घरो और अपनी दुकानों आदि की रंगाई-पुताई करते है। बाज़ारों की गलियों को सुनहरीझंडियों आदि से सजाया जाता है। इस तरह दीपावली से पहले ही घर, मोहल्ले, बाजार आदि सब साफसजे हुए दिखाई देते है। दीपावली 5 दिन का त्यौहार है जिसके बारे मे हम आपको नीचे बता रहे है-

1. पहला दिन (धनतेरसधनतृयोदशी) –

धनतेरस का अर्थ है धन+तेरस = धन का अर्थ संपति और तेरस का अर्थ 13वां दिन। अर्थात चन्द्र मास केछमाही के 16वें दिन घर के लिए धन आना। इस शुभ दिन पर लोग सोना-चाँदी, बर्तन आदि खरीदकरघर पर लाते है। यह दिन भगवान धनवंतरी की जयंती के उपलक्ष्य मे मनाया जाता है, जिनकी उत्पतिसमुद्र मंथन के दौरान हुई।

2. दूसरा दिन (नरक चतुर्दशी) –

नरक चतुर्दशी 14वें दिन आती है। जब भगवान कृष्ण ने नरकासूर का वध कर बुराई की सत्य की जीतपर जश्न मनाया जाता है। इस दिन लोग सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करके नए कपड़े पहनते है औरअपने घरो मे और आसपास दीपक जलाते है और भगवान श्री कृष्ण की पूजा करते है और पूजा करने केबाद पटाखे जलाते है।

3. तीसरा दिन (अमावस) –

इस मुख्य दिन पर लोग नए कपड़े पहनकर माता लक्ष्मी जी, सरस्वती जी और गणेशजी की पूजा कीजाती है। लोग देवी देवता की आराधना कर माता लक्ष्मी से सदा घर मे रहने का निवेदन करते है। इसमहान पूजा के बाद घरों और सड़कों पर दीपक और पटाखे जलाए जाते है। इस त्यौहार का महत्वपूर्णदिन भी यही है।

4. चौथा दिन (गोवर्धन पूजा/शुक्ल प्रतिपदा) –

भगवान कृष्ण द्वारा इन्द्र के गर्व को पराजित करके लगातार बारिश और बाढ़ से बहुत से लोगो औरमवेशियों के जीवन की रक्षा करने के लिए भगवान कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अँगुली पर उठा लिया था।इसलिए इस दिन लोग अपने गाय-बैलों को सजाते है और गोबर को पर्वत बनाकर पूजा करते है औरपटाखे चलाते है। लोग इस दिन अपने रिश्तेदारों से मिलने जाते है।

5. पाँचवाँ दिन (भाई दूज) –

इस दिन त्यौहार भाइयों और बहनों का है। इस दिन यम देवता अपनी बहन यामी से मिलने गए और वहाँअपनी बहन द्वारा उनका आरती के साथ स्वागत हुआ और यम देवता ने अपनी बहन को उपहार दिया।इस तरह बहन अपने भाइयों की आरती करती है और फिर भाई अपनी बहन को उपहार भेंट करता है।
इस तरह दीपावली का त्यौहार पाँचों दिन हर्षौल्लास के साथ मनाया जाता है।

दीपावली कहाँ – कहाँ मनाई जाती है –

दीपावली का त्यौहार भारत देश मे ही नहीं बाहर विदेशों मे भी मनाया जाता है। दीपावली का त्यौहारदुनिया भर मे हिन्दू, जैन और सिख समुदाय द्वारा मनाया जाता है। श्रीलंका, पाकिस्तान, म्यांमार,थाईलैंड, मलेशिया, सिंगापुर, इन्डोनेशिया, आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, फिजी, मॉरीशस, केन्या, तंजानिया,दक्षिण अफ्रीका, सूरीनाम, त्रिनिदाद, टोबैगो, नीदरलैंड, कनाडा, ब्रिटेन, सयुंक्त अरब अमीरात, सयुंक्तराज्य अमेरिका आदि देशों मे दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है। भारतीय संस्कृति की समझ औरभारतीय मूल के वैश्विक प्रवास के कारण दीपावली मनाने वाले देशों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ रही है। कईदेशों मे इस दिन राष्ट्रिय अवकाश रहता है।




दिवाली, एक धार्मिक, विविध रंगों के प्रयोग से रंगोली सजाने, प्रकाश औऱ खुशी का, अंधकार हटाने का, मिठाईयों का,पूजा आदि का त्यौहार है, जो पूरे भारत के साथ साथ देश के बाहर भी कई स्थानों पर मनाया जाता है। यह रोशनी की कतार या प्रकाश का त्यौहार कहा जाता है। यह सम्पूर्ण विश्व में मुख्यतः हिन्दूओं और जैनियों द्वारा मनाया जाता है।उस दिन बहुत से देशों जैसे तोबागो, सिंगापुर, सुरीनम, नेपाल, मारीशस, गुयाना, त्रिनद और श्री लंका, म्यांमार, मलेशिया और फिजी में राष्ट्रीय अवकाश होता है।


दिवाली के त्यौहार की तारीख हिन्दू चन्द्र सौर कलैण्डर के अनुसार र्निधारित होती है। यह बहुत खुशी से घरों को सजाकर बहुत सारी लाइटों, दिये, मोमबत्तियॉ, आरती पढकर, उपहार बॉटकर, मिठाईयॉ, ग्रीटिंग कार्ड, एस एम एस भेजकर, रंगोली बनाकर, खेल खेलकर, मिठाईयॉ खाकर, एक दूसरे के गले लगकर औऱ भी बहुत सारी गतिविधियों के साथ मनाते है।
यह पाँच दिन (धनतेरस, नरक चतुर्दशी, अमावश्या, कार्तिक सुधा पधमी, यम द्वितीया या भाई दूज) का हिन्दू त्यौहार है जो धनतेरस (अश्वनी माह के पहले दिन का त्यौहार है) से शुरु होता है और भाई दूज (कार्तिक माह के अन्तिम दिन का त्यौहार है) पर खत्म होता है

भगवान की पूजा और त्यौहारोत्सव हमें अन्धकार से प्रकाश की ओर ले जाता है, हमें अच्छे कार्यों को करने के प्रयासों के लिये शक्ति देता है, देवत्व के और ज्यादा करीब लाता है। घर के चारों ओर दिये और मोमबत्ती जलाकर प्रत्येक कोने को प्रकाशमान किया जाता है। यह माना जाता है कि पूजा और अपने करीबी और प्रियजनों को उपहार दिये बिना यह त्यौहार कभी पूरा नहीं होता है। त्यौहार की शाम लोग दैवीय आशीर्वाद पाने के उद्देश्य से भगवान की पूजा करते है। दिवाली का त्यौहार वर्ष का सबसे सुंदर और शांतिपूर्ण समय लाता है जो मनुष्य के जीवन में असली खुशी के पल प्रदान प्रदान करता है।

दिवाली के त्यौहार पर राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया जाता है ताकि सभी अपने मित्रों और परिवार के साथ त्यौहार का आनन्द ले सकें। लोग इस त्यौहार का बहुत लम्बे समय से इंतजार करते है और इसके नजदीक आते ही लोग अपने घरों, कर्यालयों, कमरों, गैराजों को रंगवाते और साफ कराते है और अपने कार्यालयों में नयी चैक बुक, डायरी और कलैण्डर वितरित करते है। वे मानते है कि साफ सफाई और त्यौहार मनाने से वे जीवन में शान्ति और समृद्धि प्राप्त करेंगें। सफाई का वास्तविक अर्थ दिल के हर कोने से सभी बुरे विचार, स्वार्थ और दूसरों के बारे में कुदृष्टि की सफाई से है।

व्यापारी अपने वर्ष के खर्च और लाभ जानने के लिये अपने बहीखातों की जॉच करते है। शिक्षक किसी भी विषय में अपने छात्रों की प्रर्दशन और प्रगति का निरीक्षण करते है। लोग उपहार देने के माध्यम से दुश्मनी हटाकर सभी से दोस्ती करते है। कॉलेज के छात्र अपने परिवार के सदस्यों, दोस्तों और रिश्तेदारों को दिवाली कार्ड और एस एम एस भेजते है। आज कल इंटरनेट के माध्यम से दीवाली ई-कार्ड या दीवाली एसएमएस भेजने के सबसे लोकप्रिय चलन बन गया है। भारत में कुछ स्थानों पर दीवाली के मेले आयोजित किये जाते है जहां लोग आनंद के साथ नए कपड़े, हस्तशिल्प, कलाकृतियॉं, दीवार के पर्दे, गणेश और लक्ष्मी, रंगोली, गहने और उनके घर के अन्य जरूरी चीजों के पोस्टर खरीदने के लिये जाते है।

घर के बच्चे एनीमेशन फिल्म देख कर, अपने दोस्तों के साथ चिङिया घऱ देख कर, दिवाली पर कविता गा कर, माता पिता के साथ आरती करके, रात को आतिशबाजी करके, दिये और मोमबत्ती जला कर, हाथ से बने दिवाली कार्ड देकर, खेल खेल कर यह त्यौहार मनाते है। घर पर माँ कमरे के बिल्कुल बीच में रंगोली बनाती है, नयी और आकर्षक मिठाईयॉ, नये व्यंजन जैसे गुँजिया, लड्डू, गुलाब जामुन, जलेबी, पेडे और अन्य तरह के व्यजंन बनाती है।

दीवाली कब मनाई जाती है


हिंदू कैलेंडर के अनुसार दीवाली अश्विन के महीने में कृष्ण पक्ष की 13 वें चंद्र दिन (जो भी अंधेरे पखवाड़े के रूप में जाना जाता है) पर मनाया जाता है। यह परम्परागत रुप से हर साल मध्य अक्टूबर या मध्य नवम्बर में दशहरा के 18 दिन बाद मनाया जाता है। यह हिन्दूओं का बहुत महत्वपूर्ण त्यौहार है।
दिवाली का त्यौहार हर साल बहुत सारी खुशियों के साथ आता है और पॉच दिनों से अधिक समय धनतेरस से भाई दूज पर पूरा होता है।कुछ स्थानों पर जैसे कि महाराष्ट्र में यह छह दिनों में पूरा होता है (वासु बरस या गौवास्ता द्वादशी के साथ शुरू होता है और भईया दूज के साथ समाप्त होता है)।

दिवाली क्यों मनायी जाती है

दिवाली हर साल हिन्दूओं और अन्य धर्म के लोगो द्वारा मुख्य त्यौहार के रुप में मनायी जाती है। हिन्दू मान्यता के अनुसार, दिवाली का त्यौहार मनाने के बहुत सारे कारण है और नये वर्ष को ताजगी के साथ शुरु करने में मनुष्यों के जीवन में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। लोगों की यह मान्यता है कि जो वे इस त्यौहार पर करेगें वहीं पूरे साल करेगें। इसलिये लोग अच्छे काम करते है, धनतेरस पर खरीदारी करना, घर के प्रत्येक कोने को प्रकाशित करना, मिठाई बॉटना, दोस्ती करना, भगवान गणेश और देवी लक्ष्मी जी की शान्ति और समृद्धि पाने के लिये पूजा करना, अच्छा और स्वादिष्ट भोजन करना, अपने घरों को सजाना और अन्य गतिविधियॉ जिससे वे पूरे साल ऐसा कर सकें। शिक्षक नियमित क्लास लेते है, विधार्थी अधिक घण्टें अध्ययन करते है, व्यवसायी अपने खातों को अच्छे से तैयीर करते है ताकि वे पूरे साल ऐसे ही रहें। हिन्दू मान्यता के अनुसार, दिवाली मनाने के निम्नलिखित बहुत सारे पौराणिक और ऐतिहासिक कारण है।
भगवान राम की विजय और आगमन: हिन्दू महाकाव्य रामायण के अनुसार, भगवान राम राक्षस राजा रावण को मारकर और उसके राज्य लंका को अच्छी तरह से जीतकर अपनी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ अपने राज्य, अयोध्या, बहुत लम्बे समय(14 वर्ष) के बाद वापस आये थे। अयोध्या के लोग अपने सबसे प्रिय और दयालु राजा राम, उनकी पत्नी और भाई लक्ष्मण के आने से बहुत खुश थे। इसलिये उन्होनें भगवान राम का लौटने का दिन अपने घर और पूरे राज्य को सजाकर, मिट्टी से बने दिये और पटाखे जलाकर मनाया।
देवी लक्ष्मी का जन्मदिन: देवी लक्ष्मी धन और समृद्धि की स्वामिनी है। यह माना जाता है कि राक्षस और देवताओं द्वारा समुन्द्र मंथन के समय देवी लक्ष्मी दूध के समुन्द्र (क्षीर सागर) से कार्तिक महीने की अमावश्या को ब्रह्माण्ड में आयी थी। यही कारण है कि यह दिन माता लक्ष्मी के जन्मदिन के उपलक्ष्य में दिवाली के त्यौहार के रूप में मनाना शुरू कर दिया।
भगवान विष्णु ने लक्ष्मी को बचाया: हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, एक महान दानव राजा बाली था, जो सभी तीनों लोक (पृथ्वी, आकाश और पाताल) का मालिक बनना चाहता था, उसे भगवान विष्णु से असीमित शक्तियों का वरदान प्राप्त था। पूरे विश्व में केवल गरीबी थी क्योंकि पृथ्वी का सम्पूर्ण धन राजा बाली द्वारा रोका हुआ था। भगवान के बनाये ब्रह्मांण्ड के नियम जारी रखने के लिए भगवान विष्णु ने सभी तीनों लोकों को बचाया था (अपने वामन अवतार, 5 वें अवतार में) और देवी लक्ष्मी को उसकी जेल से छुडाया था। तब से, यह दिन बुराई की सत्ता पर भगवान की जीत और धन की देवी को बचाने के रूप में मनाया जाना शुरू किया गया।
भगवान कृष्ण ने नरकासुर को मार डाला: मुख्य दिवाली से एक दिन पहले का दिन नरक चतुर्दशी के रूप में मनाया जाता है। बहुत समय पहले, नरकासुर नाम का राक्षस राजा(प्रदोषपुरम में राज्य करता था)था, जो लोगों पर अत्याचार करता था और उसने अपनी जेल में 16000 औरतों को बंधी बना रखा था। भगवान कृष्ण (भगवान विष्णु के 8 वें अवतार) उसकी हत्या करके नरकासुर की हिरासत से उन सभी महिलाओं की जान बचाई थी। उस दिन से यह बुराई सत्ता पर सत्य की विजय के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।
राज्य में पांडवों की वापसी: महान हिंदू महाकाव्य महाभारत के अनुसार, निष्कासन के लम्बे समय(12 वर्ष) के बाद कार्तिक महीने की अमावश्या को पांडव अपने ऱाज्य लौटे थे। कोरवों से जुऐं में हारने के बाद उन्हें 12 वर्ष के लिये निष्कासित कर दिया गया था। पांडवों के राज्य के लोग पांडवों के राज्य में आने के लिए बहुत खुश थे और मिट्टी के दीपक जलाकर और पटाखे जलाकर पांडवों के लौटने दिन मनाना शुरू कर दिया।
विक्रमादित्य का राज्याभिषेक: राजा विक्रमादित्य एक महान हिन्दू राजा का विशेष दिन पर राज्यभिषेक हुआ तब लोगों ने दिवाली को ऐतिहासिक रुप से मनाना शुरु कर दिया।
आर्य समाज के लिए विशेष दिन: महर्षि दयानंद महान हिन्दू सुधारक के साथ साथ आर्य समाज के संस्थापक थे और उन्होंने कार्तिक के महीने में नया चाँद(अमावश्या) के दिन निर्वाण प्राप्त किया। उस दिन से इस खास दिन के उपलक्ष्य में दीवाली के रूप में मनाया जा रहा है।
जैनियों के लिए विशेष दिन: तीर्थंकर महावीर, जिन्होंने आधुनिक जैन धर्म की स्थापना की, उन्हें इस विशेष दिन दिवाली पर निर्वाण की प्राप्ति हुई जिसके उपलक्ष्य में जैनियों में यह दिन दीवाली के रूप में मनाया जाता है।
मारवाड़ी नया साल: हिंदू कैलेंडर के अनुसार, मारवाड़ी अश्विन की कृष्ण पक्ष के अंतिम दिन पर महान हिंदू त्यौहार दीवाली पर अपने नए साल का जश्न मनाते है।
गुजरातियों के लिए नया साल: चंद्र कैलेंडर के अनुसार, गुजराती भी कार्तिक के महीने में शुक्ल पक्ष के पहले दिन दीवाली के एक दिन बाद अपने नए साल का जश्न मनाते है।
सिखों के लिए विशेष दिन: अमर दास (तीसरे सिख गुरु) ने दिवाली को लाल-पत्र दिन के पारंम्परिक रुप में बदल दिया जिस पर सभी सिख अपने गुरुजनों का आशार्वाद पाने के लिये एक साथ मिलते है। अमृतसर के स्वर्ण मंदिर की स्थापना भी वर्ष 1577 में दीवाली के मौके पर की गयी थी। हरगोबिंद जी (6 सिख गुरु) को वर्ष 1619 में मुगल सम्राट जहांगीर की हिरासत से ग्वालियर किले से रिहा किया गया था।
1999 में, पोप जॉन पॉल द्वितीय ने भारतीय चर्च में अपने माथे में पर तिलक लगा कर ईसा मसीह के अंतिम भोज के स्मारक रात्रि भोज (प्रकाश का त्यौहार) का असाधारण प्रदर्शन किया था। यही तो दिवाली के रूप में मनाया जाता है।
दीवाली का महत्व
दीवाली, हिंदुओं के लिए सांस्कृतिक, धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व का त्यौहार (जिसका अर्थ है, जागरूकता और भीतर के प्रकाश का जश्न) है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, ऐसा माना जाता है कि, ऐसा कुछ है जो शुद्ध, कभी ना खत्म होने वाला, अपरिवर्तनीय और भौतिक शरीर के साथ साथ अनन्त से भी परे जिसे आत्मा कहा जाता है। लोग पाप पर सत्य की विजय का आनंद लेने के लिए दिवाली मनाते हैं।

दिवाली का इतिहास

ऐतिहासिक रुप से, दिवाली भारत में बहुत प्राचीन काल से मनाया जा रहा है जब, लोग इसे मुख्य फसल के त्यौहार के रुप में मनाते थे। हालाकिं कुछ इस विश्वास के साथ इस त्यौहार को मनाते है कि इस दिन देवी लक्ष्मी की शादी भगवान विष्णु के साथ हुई थी। बंगाली इस त्यौहार को माता काली (शक्ति की काली देवी) की पूजा करके मनाते है। हिन्दू इस शुभ त्यौहार को बुद्धिमत्ता के देवता गणेश (हाथी के सिर वाले भगवान) और माता लक्ष्मी (धन और समृद्धि की माता) का पूजा करके मनाते है। हिन्दू पौराणिक कथाओं के अनुसार, यह माना जाता है कि दिवाली की उत्पत्ति इस प्रकार हुई; इस दिन देवी लक्ष्मी देवताओं और दानवों द्वारा बहुत लम्बे समय तक सागर मंथन के बाद दूध (क्षीर सागर) के समुन्द्र से बाहर आई। वह ब्रह्माण्ड में मानवता के उद्धार के लिये धन और समृद्धि प्रदान करने के लिये अवतरित हुई। इनका स्वागत और सम्मान करने के लिये लोगों ने देवी लक्ष्मी की पूजा की। वे बहुत खुश थे इसलिये उन्होंने एक दूसरे को मिठाईयॉ और उपहार वितरित किये।
दिवाली सम्मारोह पॉच दिन का त्यौहार है, और दिवाली के पॉचों दिनों की अपनी कहानियॉ और किंवदंतियॉं है।
  • दिवाली का पहला दिन धनतेरस के नाम से जाना जाता है जिसका अर्थ है घर में धन और समृद्धि का आना। लोग बर्तन, सोने और चॉदी के सिक्के, और अन्य वस्तुऍ खरीद कर इस विश्वास के साथ अपने घर लाते है कि घर में धन की वृद्धि होगी।
  • दिवाली का दूसरा दिन नरक चतुर्दशी के नाम के जाना जाता है, जो इस विश्वास के साथ मनाया जाता है कि भगवान कृष्ण द्वारा राक्षस नरकासुर को हराया गया था।
  • दिवाली का तीसरा दिन अमावश्या के नाम के जाना जाता है जो हिन्दू देवी लक्ष्मी (धन की देवी) की पूजा के इस विश्वास के साथ मनाया जाता है, जो सभी इच्छाओं की पूर्ति करती है।
  • दिवाली का चौथा दिन बली प्रदा के नाम से जाना जाता है जो भगवान विष्णु की कथा से सम्बऩ्धित है जिन्होंने अपने वामन अवतार में राक्षस राजा बलि को हराया था। बलि बहुत महान राजा था किन्तु पृथ्वी पर शासन करते हुये वह लालची हो गया क्योंकि उसे भगवान विष्णु द्वारा असीमित शक्तियों की प्राप्ति का वरदान मिला था। गोर्वधन पूजा इस विश्वास के साथ भी मनाया जाता है कि भगवान कृष्ण ने असहनीय काम करके इन्द्र के गर्व को हराया था।
  • दिवाली का पॉचवा दिन यम द्वितीया या भाई दूज के नाम से भी जाना जाता है जो मृत्यु के देवता “यम” और उनकी बहन यामी के इस विश्वास के साथ मनाया जाता है। लोग इस दिन को बहन और भाई के एक दूसरे के प्रति प्रेम और स्नेह के उपलक्ष्य में मनाते है।
लोग दीवाली उत्सव का जगमगाते हुये दीपकों के प्रकाश, स्वादिष्ट मिठाईयों का आनंद लेकर मनाते है। यह त्यौहार भारत और देश के बाहर भी वर्षों पहले से मनाया जा रहा है। दिवाली मनाने की परम्परा हमारे देश के इतिहास से भी पुरानी है। भारत में दिवाली की उत्पत्ति का इतिहास विभिन्न प्रकार की किवदंतियों और पौराणिक कथाओं को शामिल करता है जो प्राचीन हिन्दू ग्रन्थों जिन्हें पुराण भी कहते है; में वर्णित है। दिवाली की ऐतिहासिक उत्पत्ति के पीछे का वास्तविक कारण पहचानना बहुत आसान नहीं है। प्राचीन इतिहास के अनुसार, दिवाली की ऐतिहासिक उत्पत्ति के बहुत से कारण है।
दीवाली का जश्न मनाने के पीछे सबसे मशहूर और अच्छी तरह से ज्ञात इतिहास का महान हिंदू महाकाव्य रामायण में उल्लेख किया है। इसके अनुसार, राम 14 वर्ष का वन में एक लंबा जीवन जीने के बाद अपने राज्य में वापस आये थे। राम के वनवास के पीछे महान उद्देश्य लंका के दानव राजा रावण का वध करना था। अयोध्या के लोगों ने भगवान राम के अपने राज्य में लौटने का जश्न मनाया था। उस वर्ष से हर साल जश्न मनाने की यह महान हिंदू परंपरा बन गई।
दीवाली के इतिहास से जुड़ी एक और महान कहानी हिंदू महाकाव्य महाभारत में लिखी है जिससे पता चलता है कि पॉच पांण्डव भाई, जिन्हें पाण्डवों के नाम से भी जाना जाता है, अपने राज्य हस्तिनापुर 12 वर्ष के निष्कासन और 1 साल का अज्ञातवास पूरा करके लौटे थे क्योंकि वे कौरवों द्वारा जुऍ के खेल में हरा दिये गये थे। उनका राज्य में सभी जगह जगमगाते दीयों के प्रकाश के साथ राज्य की जनता द्वारा स्वागत किया गया। यह माना जाता है दीवाली पांडवों की घर वापसी के उपलक्ष्य में मनायी जाती है।
अन्य पौराणिक इतिहास के अनुसार दीवाली का जश्न मनाने के पीछे धन की देवी लक्ष्मी का सागर से जन्म है। हिन्दू शास्त्रों के अनुसार, बहुत समय पहले अमृत (अमरता का अमृत) और नवरत्न प्राप्त करने के उद्देश्य से देवताओँ और असुरों दोनों ने सागर मंथन किया। देवी लक्ष्मी (दूध के सागर के राजा की बेटी) कार्तिक के महीने का नये चाँद के दिन पैदा हुई जिनकी शादी भगवान विष्णु से हुई। यही कारण है कि यह दिन दिवाली के त्यौहार के रूप में प्रतिवर्ष मनाया जाता है।
पवित्र हिंदू पाठ, भागवत पुराण के अनुसार भगवान विष्णु ने सभी तीनों लोकों को बचाने के लिए अपने वामन अवतार में पृथ्वी पर सत्तारूढ़ एक शक्तिशाली दानव राजा बलि को हराया था। भगवान विष्णु उस के पास पहुंचे और 3 पैर जगह मॉगी। बलि ने हाँ कहा इसलिये भगवान विष्णु ने अपने तीन पैर जगह में सभी तीनों लोकों को माप लिया। दिवाली इस बुराई की सत्ता पर इस जीत को याद करने के लिए हर साल मनायी जाती है।
भागवत पुराण के अनुसार एक और इतिहास है कि शक्तिशाली क्रूर और भयानक राक्षस राजा नरकासुर था जिसने आकाश और पृथ्वी दोनों पर विजय प्राप्त की थी। वह कई महिलाओं को बचाने के उद्देश्य से जो राक्षस द्वारा बंद कर दी गयी थी हिंदू भगवान कृष्ण द्वारा मारा गया। लोग नरकासुर की हत्या से बहुत खुश थे और बहुत खुशी के साथ उन्होंने इस घटना का जश्न मनाया। अब यह पारंपरिक रूप से यह माना जाता है कि दीवाली का वार्षिक समारोह के द्वारा इस घटना को याद किया जाता है।
दीवाली का जश्न मनाने के पीछे एक अन्य पौराणिक इतिहास है कि बहुत समय पहले एक राक्षस था, जिसने लड़ाई में सभी देवताओं को पराजित किया और सारी पृथ्वी और स्वर्ग हिरासत में ले लिया। तब माँ काली ने देवताओं, स्वर्ग और पृथ्वी को बचाने के उद्देश्य से देवी दुर्गा के माथे से जन्म लिया था। राक्षसों की हत्या के बाद उन्होंने अपना नियंत्रण खो दिया और जो भी उनके सामने आया उन्होंने हर किसी की हत्या करनी शुरू कर दी। अंत में वह केवल उनके रास्ते में भगवान शिव के हस्तक्षेप द्वारा रोकी गयी। देश के कुछ भागों में, उस पल यादगार बनाने के लिए उसी समय से ही यह दिवाली पर देवी काली की पूजा करके मनाया जाता है।
यह माना जाता है कि भारत के एक महान और प्रसिद्ध हिन्दू राजा विक्रमादित्य थे, जिन्हें अपने ज्ञान, साहस और बड़ी हार्दिकता के लिए जाना जाता था। उनका राज्य के नागरिकों द्वारा भव्य समारोह के साथ राजअभिषेक हुआ और उनके राजा बनने की घोषणा की गयी। यही कारण है कि यह घटना दीवाली की वार्षिक विधि के रूप में मनाया जाता है। हिंदू धर्म के एक महान सुधारक स्वामी दयानंद सरस्वती ने, कार्तिक महीने में नये चंद्रमा के दिन पर निर्वाण (मोक्ष) प्राप्त किया था। उन्होंने वर्ष 1875 में आर्य समाज (रईसों की सोसायटी) की स्थापना की। उन्हें पूरे भारत में हिंदुओं द्वारा दीवाली पर याद किया जाता है। आधुनिक जैन धर्म के संस्थापक, वर्धमान महावीर को, समान दिन पर ज्ञान की प्राप्ति हुई। यही कारण है कि जैन धर्म के लोग भी दिवाली समारोह मनाते है। दिवाली का सिखों के लिये भी विशेष महत्व है क्योंकि उनके गुरु अमर दास ने एक साथ गुरु का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए दिवाली पर एक अवसर संस्थागत किया था। कुछ स्थानों पर यह माना जाता है कि, दिवाली ग्वालियर किले से मुगल बादशाह जहांगीर की हिरासत से छठे धार्मिक नेता, गुरु हरगोबिंद जी की रिहाई की स्मृति में मनायी जाती है।

पांच दिनों के दिवाली समारोह हैं:

धनतृयोदशी या धनतेरस या धनवंन्तरी तृयोदशी: धनतेरस का अर्थ है(धन का अर्थ है संपत्ति और तृयोदशी का अर्थ है 13वाँ दिन) चंद्र मास के 2 छमाही के 13वें दिन में घर के लिए धन का आना। इस शुभ दिन पर लोग बर्तन, सोना खरीदकर धन के रूप में घर लाते है। यह भगवान धनवंतरी (देवताओं के चिकित्सक) की जयंती (जन्मदिन की सालगिरह) के उपलक्ष्य में मनाया जाता है, जिनकी (देवताओं और राक्षसों ने समुद्र मंथन के दौरान) उत्पत्ति समुद्र मंथन के दौरान हुई थी।
नरक चतुर्दशी: नरक चतुर्दशी 14वें दिन पडती है, जब भगवान कृष्ण (भगवान विष्णु के अवतार) ने राक्षस नरकासुर को मारा था। यह बुराई की सत्ता या अंधकार पर अच्छाई या प्रकाश की विजय के संकेत के रुप में जश्न मनाया जाता है। आज के दिन लोग जल्दी (सूर्योदय से पहले) सुबह उठते है, और एक खुशबूदार तेल और स्नान के साथ ही नये कपडे पहनकर तैयार होते है।तब वे सभी अपने घरों के आसपास बहुत से दीपक जलाते है और घर के बाहर रंगोली बनाते है। वे अपने भगवान कृष्ण या विष्णु की भी एक अनूठी पूजा करवाते है। सूर्योदय से पहले स्नान करने का महत्व गंगा के पवित्र जल में स्नान करने के बराबर है। पूजा करने के बाद वे राक्षस को हराने के महत्व में पटाखे जलाते है। लोग पूरी तरह से अपने परिवार और दोस्तों के साथ उनके नाश्ता और लंच करते है।
लक्ष्मी पूजा: यह मुख्य दिन दीवाली जो लक्ष्मी पूजा (धन की देवी) और गणेश पूजा (सभी बाधाओं को हटा जो ज्ञान के देवता) के साथ पूरी होती है। महान पूजा के बाद वे अपने घर की समृद्धि और भलाई का स्वागत करने के लिए सड़कों और घरों पर मिट्टी के दीये जलाते है।
बाली प्रतिप्रदा और गोवर्धन पूजा: यह उत्तर भारत में गोवर्धन पूजा (अन्नकूट) के रूप में मनाया जाता है। भगवान कृष्ण द्वारा इंद्र के गर्व को पराजित करके लगातार बारिश और बाढ से बहुत से लोगों (गोकुलवासी) और मवेशियों के जीवन की रक्षा करने के महत्व के रुप में इस दिन जश्न मनाते है। अन्नकूट मनाने के महत्व के रुप में लोग बडी मात्रा में भोजन की सजावट(कृष्ण द्वारा गोवर्धन पहाडी उठाने प्रतीक के रुप में) करते है और पूजा करते है।यह दिन कुछ स्थानों पर दानव राजा बाली पर भगवान विष्णु (वामन) की जीत मनाने के लिये भी बाली-प्रतिप्रदा या बाली पद्धमी के रूप में मनाया जाता है। कुछ स्थानों जैसे महाराष्ट्र में यह दिन पडवा या नव दिवस (अर्थात् नया दिन) के रुप में भी मनाया जाता है और सभी पति अपनी पत्नियों को उपहार देते है। गुजरात में यह विक्रम संवत् नाम से कैलेंडर के पहले दिन के रूप में मनाया जाता है।
यम द्वितीया या भाई दूज: यह भाइयों और बहनों का त्यौहार है जो एक दूसरे के लिए अपने प्यार और देखभाल का प्रतीक है। यह जश्न मनाने के महत्व के पीछे यम की कहानी (मृत्यु के देवता) है। आज के दिन यम अपनी बहन यामी (यमुना) से मिलने आये और अपनी बहन द्बारा उनका आरती के साथ स्वागत हुआ और उन्होंने साथ में खाना भी खाया। उन्होनें अपनी बहन को उपहार भी दिया।
प्रकाश के त्यौहार के रुप में, दिवाली सभी बच्चों के लिये खुशी और आनन्द के क्षण लाता है। बच्चे पूरे साल इस महान त्यौहार के आने का इंतजार करते है। वे इसे मनाना बहुत पसन्द करते है क्योंकि वे इस दिन बहुत मस्ती करते है। जब यह आने के करीब होता है, वे पहले से ही अपने माता-पिता से घर पर पूजा के लिये भगवान की मूर्ति, पूजा की वस्तुएँ, पटाखे, मीठे व्यंजन बनाने, उपहार और कपङे खरीदने, घर के रुप को नवीनीकृत करने और अन्य चीजें करने के लिये कहते है जो पिछले वर्ष की गयी थी। वे अपने दादा-दादी, नाना-नानी, और घर के अन्य सदस्यों से दिवाली की कहानी सुनाने के लिये अनुरोध करते है, क्योंकि उन्हें दिवाली की कहानी सुनना बहुत अच्छा लगता है। वे कक्षाओं में अपने मित्रों से दिवाली की तैयारी, जश्न और अन्य चीजों के बारे में चर्चा करते है। वे मोबाइल या पोस्ट के माध्यम से पूरी दुनिया में अपने प्रियजनों को संदेश, बधाई और उपहार भेजते हैं।

दिवाली पर बच्चों के लिये गतिविधियाँ
वे पिछले वर्ष से भी ज्यादा महान और यादगार पलों को बनाने के लिये दिवाली का बहुत उत्साह और साहस के साथ इंतजार करते है। वे रंगोली बनाना, घर की साफ-सफाई में भाग लेना, खरीददारी के लिये बाजार जाना और घर की अन्य जिम्मेदारियों को लेना सीखते है। वे घर अपनी पसंदीदा चीजें जैसे टी0वी0, संगीत थियेटर, लैपटॉप, साइकिल, खिलौने, फ्रिज, कपङे धोने की मशीन, घर की सजावट का समान, पटाखे आदि लाने के लिये बहुत उत्साहित होते है।
भारत में बच्चों के लिये दिवाली पर करने के लिये बहुत सारी गतिविधियाँ है। सभी घरों के बच्चें एक दूसरे के साथ धार्मिक खेल खेलकर, दिवाली कार्यक्रम की तैयारी करके एक साथ उत्सव मनाते है। वे दिवाली उत्सव की तैयारी करते समय घर की विभिन्न गतिविधियों में भाग लेते है। वे दिवाली के मौसम के दौरान उत्सव का पूरा आनन्द लेने के लिये और अधिक चीजों के बारे में जानने के लिये उत्सुक रहते है।

बच्चों के लिये मस्ती की क्रियाऍ:

खेल:
बच्चें दिवाली के त्यौहार पर अपने मित्रों और परिवार के साथ अलग-अलग किस्मों के खेल खेलकर त्यौहार का आनन्द लेते है। वे आमतौर पर छुपन-छुपाई, पासिंग बक, ड्रम चारदेस, वर्ड स्क्रैंबलेर, म्यूजिकल चेयर और अन्य बहुत से इनडोर खेलों के साथ ही आउटडोर खेल खेलकर मस्ती करते है। इस महान अवसर पर वे अतिरिक्त-पाठ्योत्तर गतिविधियों में शामिल होकर अपने मित्रों के साथ और भी अधिक घुल-मिल जाते है। वे विभिन्न खेलों को खेलने के साथ ही अपने परिवार वालों और मित्रों के साथ और भी अधिक समय व्यतीत करते है।
पटाखे:
बच्चें दिवाली पर शाम के समय अपने मित्रों और परिवार वालों के साथ पटाखे जलाने का आनन्द लेते है। वे पटाखे अपने माता-पिता की देखरेख में जलाते है क्योंकि उन के साथ कोई नुकसान या दुर्घटना हो सकती है। वे पटाखे जलाने से पहले अपने बडों से सुरक्षा के उपाय जानते है कि पटाखों को कैसे जलाया जाये और खुद को कैसे बचाया जाये।
दिवाली के व्यंजन:
वे दिवाली पर माँ के द्वारा घर पर विभिन्न प्रकार के भोजन बनाने, मिठाई बनाने और अन्य व्यंजन बनाने का इंतजार करते है। अपने परिवार औऱ मित्रों सहित वे स्वादिष्ट नाश्ता, दोपहर के भोजन के साथ ही साथ रात के भोजन में लिप्त रहते है। उन्हें अपनी सबसे अधिक पसन्द की मिठाई की तैयारी में शामिल होने के लिये प्रोत्साहित किया जाता है। यह त्यौहार सभी बच्चों को अपने माता पिता से कुछ सीखने के लिए एक अनमोल क्षण प्रदान करता है।
साफ-सफाई औऱ सजावट की गतिविधियाँ:
बच्चें अपने माता-पिता और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ घर की साफ-सफाई और सजावट की गतिविधियों में बहुत उत्साह के साथ शामिल होते है। दिवाली बच्चों को बहुत सारी चीजें जैसे; रंगोली बनाना, घर की सजावट करना, उपहार देना, नये दोस्त बनाना, नये व्यंजन बनाना, परंपरागत और सांस्कृतिक क्रियाएँ करना, बडों का सम्मान करना आदि को सीखाने के बहुत सारे अवसर लाती है।
हस्तशिल्प बनाना:
बच्चें अपने घर पर या कक्षा में अपने मित्रों और परिवार वालों के साथ दिवाली से सम्बन्धित हस्तशिल्प बनाने का आनंद लेते है। दिवाली से सम्बन्धित कुछ हस्तशिल्प दीयें, मालायें, मोमबत्ती और घर की सजावट की वस्तुएँ आदि हैं। वे अपने शिक्षकों और माता-पिता से आकर्षक हस्तशिल्प सीखने के लिये बहुत उत्सुक होते है।
बच्चों के लिये दिवाली पर मस्ती के तथ्य:
  • कई देशों जैसे: भारत, नेपाल, सूरीनाम, म्यांमार, मॉरिशस, त्रिनिदाद और टोबैगो, सिंगापुर, गुयाना, श्रीलंका, मलेशिया और फिजी में यह एक राष्ट्रीय छुट्टी है।
  • यह भारत के व्यापारियों के लिए नए वित्तीय वर्ष की शुरुआत है।
  • दीवाली भारत में सर्दियों के फसल के मौसम की शुरुआत के साथ ही गर्मी की फसल के मौसम के अंत का संकेत है।

दिवाली के कुछ धार्मिक तथ्य

  • दीवाली पांच दिनों तक मनाये जाने वाला त्यौहार है, इसे रोशनी के त्यौहार के रूप में जाना जाता है।
  • दीवाली के त्यौहार पर मिट्टी के दीये तेल के साथ प्रज्जवलित करने की परंपरा है।
  • इस साल मुख्य दीवाली 3 नवंबर को मनायी जायेगी।
  • यह हिंदू अनुष्ठान है कि पूरी रात दीपक, मोमबत्ती या अन्य बिजली की रोशनी आदि का प्रकाश करने व्यवस्था दिल से समृद्धि का स्वागत करने के लिए की जाती है।
  • दीवाली अंधेरे को हटाने और हमारे जीवन में प्रकाश और आशीर्वाद के समावेश का संकेतक है।
  • यह बरसात के मौसम के बाद नए मौसम के आने का भी संकेत है।
  • लोग दरवाजों पर विभिन्न रंगों का प्रयोग करके रंगोली बनाते है, नए कपङे पहनते है, घर के दरवाजे और खिडकियॉ खोलते है और धन और समृद्धि का स्वागत करने के लिये पूरी रात दीये जलाते है।



I hope ये पोस्ट आपको अच्छी लगही होगी. यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगे तो आप इसे friend के साथ जरुर share करे. क्योंकि हम हमेशा आपके लिए इसी तरह की पोस्ट लेके आते रहे.


ALT-TEXT

GAURAV RAJPUT

He is a 18 years self-trained guy, a young part time blogger and Android expert from last five years. He is an Indian blogger and share useful content on this blog regularly, If you like his articles Then you can Share this blog on social media with your friends.
ALT-TEXT

ALT-TEXT

ALT-TEXT

Latest posts by YOUR-NAME (see all)

No comments:

Powered by Blogger.